Ashaar

Sitam to ye....सितम तो ये ....

October 11, 2017

सितम तो ये के  ,,,हमारी सफों में ,,,शामिल हैं
चराग़ ,,, बुझते ही,,, ख़ेमा,,,  बदलने वाले..... लोग
Sitam to ye ke,,, Humari Safon Mein,,, Shamil Hain
Charagh,,, Bujhte Hi ,,,Khaima ,,,,Badalne Wale..... Log..

Iqbal Ashhar

Ashaar

Lagtaa hai....लगता है....

September 28, 2017

लगता है,,,,कई रातों से ,,,जागा  था ,,मुसव्विर 
तस्वीर की ,, आँखों से ,,,थकन ,,,,झाँक रही है 
Lagtaa hai,, kayi raaton se ,,jaagaa tha,, Musavvir 
Tasveer ki,,, aankhon se ,,,thakan ,,,Jhaank rahi Hai..

Ashaar

Ghalat baaton ko...ग़लत बातों को...

September 28, 2017

ग़लत बातों को ,,,ख़ामोशी से सुनना,,  हामी  भर लेना 
बहुत हैं,,, फायदे,, इसमें,,, मगर ... अच्छा नहीं लगता .. 
Ghalat baaton ko,,, khamoshi se,, sunna, haami bhar lena.
Bahut hain,,, faayde ismen,,, magar,,, achchha nahin lagtaa....

JAVED AKHTAR.

Ashaar

Usey jo chahiye....उसे जो चाहिए...

September 27, 2017

उसे जो चाहिए,,,,, मैं हूँ ,,,,उसी के माफिक...... शै .. 
वो मेरे ,,,जैसे की ,,,, ज़िद में,,,, गँवा रहा है..... मुझे ...
Usey jo chahiye,,, main hoon,,, usi ke maafik .....shai 
Wo mere,,, jaise ki... zid mein,,,, ganwa raha hai...... mujhe
Rahul Jha

Ashaar

Usi ka maal....उसी का माल....

September 27, 2017

उसी का ,,,,माल,,,, तो बिकता है,,,, इस ज़माने में
जो अपने ,,,,नीम के,,,, पत्तों को,,,,, ज़ाफरान कहे.......
Usi ka,,,, maal,,, to bikta hai,,,, is zamaane mein
Jo apne,,, neem ke,,,, patton ko ,,,,zaafran..... kahe....

Nawaz Deobandi

Ashaar

Ruup ki dhuup....रूप की धूप ....

September 26, 2017

रूप की धूप ,,,  कहाँ जाती है,,,,, मालूम नहीं
शाम,,,, किस तरह ,,,,उतर आती है,,,, रुखसारों पर 
Ruup ki dhuup,,,, kahaan jaati hai ,,,,maloom nahin
Shaam ,,,,kis tarah,,,, utar aati hai ,,,,,ruḳhsaron par.....
Irfan Siddiqi



Ashaar

Is daur mein....इस दौर में....

September 25, 2017

इस दौर में ,,, मिजाज़ ,,,,कोई पूछे ,,,,,अगर ..... ज़ाहिद 
तो वह,,, तफ्तीश .. होती है ,,,,,पुर्सिश ,,,,, तो बस....  बहाना है.......
Is daur mein,,,, mizaaj ,,,koi pooche,,,,,agar,,,,,,zahid,,
to vo,,,,tafteesh,,,hoti hai,,,,,pursish.....to bus,,,,bahaana hai ...

पुर्सिश  = कुशल मंगल पूछना 


Taj dhorajvi

Ashaar

Main nahi udta.....मैं नहीं उड़ता.....

September 11, 2017

मैं नहीं उड़ता,,, तो क्या? ख्वाहिश  तो,,, उड़ती है मेरी
हर परिन्दे में,,, जड़ा,,, एकाध,,, पर मेरा भी है ........
Main nahi udta,,,, to kya ? khwahish to udti hai meri
Har parinde mein jadaa ek aadh par mera bhi hai....

Naveen C Chaturvedi

Ashaar

Ab jo rishton...अब जो रिश्तों.....

September 11, 2017

अब जो  रिश्तों में बंधा हूँ,,, तो ,,,,खुला है ...मुझ पर
कब परिंदे,,, उड़ नहीं पाते,,,, परों के होते ..... 
Ab jo rishton mein bandha hoon,,, to,,, khula hai... mujh par
Kab parinde,,, ud nahi paate,,,, paron ke hotey......

 Jaun Eliya


Ashaar

Mujhko kaafi hai..मुझ को काफ़ी है....

September 11, 2017

मुझ को काफ़ी है,,, बस ,,,इक,,, तेरा मुआफ़िक़ होना
सारी दुनिया भी,,, मुख़ालिफ़ हो ,,,,तो..... क्या होता है.......
Mujhko kaafi hai,,,bus,,ikk, tera muaafiq hona...
Saari duniya bhi, mukhaalif ho, to ...kya hota hai ..

रंजूर अज़ीमाबादी

Total Pageviews