Ashaar

Main nahi udta.....मैं नहीं उड़ता.....

September 11, 2017

मैं नहीं उड़ता,,, तो क्या? ख्वाहिश  तो,,, उड़ती है मेरी
हर परिन्दे में,,, जड़ा,,, एकाध,,, पर मेरा भी है ........
Main nahi udta,,,, to kya ? khwahish to udti hai meri
Har parinde mein jadaa ek aadh par mera bhi hai....

Naveen C Chaturvedi

Ashaar

Ab jo rishton...अब जो रिश्तों.....

September 11, 2017

अब जो  रिश्तों में बंधा हूँ,,, तो ,,,,खुला है ...मुझ पर
कब परिंदे,,, उड़ नहीं पाते,,,, परों के होते ..... 
Ab jo rishton mein bandha hoon,,, to,,, khula hai... mujh par
Kab parinde,,, ud nahi paate,,,, paron ke hotey......

 Jaun Eliya


Ashaar

Mujhko kaafi hai..मुझ को काफ़ी है....

September 11, 2017

मुझ को काफ़ी है,,, बस ,,,इक,,, तेरा मुआफ़िक़ होना
सारी दुनिया भी,,, मुख़ालिफ़ हो ,,,,तो..... क्या होता है.......
Mujhko kaafi hai,,,bus,,ikk, tera muaafiq hona...
Saari duniya bhi, mukhaalif ho, to ...kya hota hai ..

रंजूर अज़ीमाबादी

Ashaar

Ummeedon se....उम्मीदों से .....

September 11, 2017

उम्मीदों से ,,,पर्दा रखा ,,,,,खुशियों से ,,,,महरूम रहीं ..
ख़्वाब मरा ,,, तो ,,,चालीस दिन का ,,,सोग मनाया आँखों ने.....


Ummeedon se ,,parda rakkha,,,, ḳhushiyon se,,,, mahruum rahin
Khvaab maraa to,,, chaalis din tak,,, sog manaayaa,,, aankhon nein.....

Bharat Bhushan Pant

  

Ashaar

Main kahaan tak....मैं कहाँ तक....

September 11, 2017

मैं कहाँ तक,,, दिल-ए -सादा को ,,,,भटकने से बचाऊँ 
आँख जब उट्ठे,,,,,, गुनाहगार,,,,, बना दे मुझको...... 
Main kahaan tak,,,, dil-e-saada ko,, bhatakney se bachaaoun
Aankkh jab utthey,,,, gunehgaar,,,,, banaa de mujh ko....

Irfan 

Ashaar

Apne haalat se....अपने हालात से....

September 11, 2017

अपने हालात से,,,,, मैं सुल्ह तो,,,,, कर लूँ.... लेकिन
मुझ में,,,,, रू-पोश जो इक,,,,, शख़्स है,,,, मर जाएगा.....
Apne haalat se ,,,,,main suleh to,,,kar loon,,,lekin,,
Mujh mein ,,, rooh-posh jo ikk ,,,shaqs hai,,,,mar jaayega .....

रईस फ़रोग़

Ashaar

Fasaane apni......फ़साने अपनी ......

September 11, 2017

फ़साने अपनी मोहब्बत के,,,, सच हैं ,,,,पर ,,,कुछ कुछ
बढ़ा भी देते हैं,,,,,, हम ,,,,,,ज़ेब-ए-दास्ताँ के लिए.....
Fasaane apni mohabbat ke,,,,,sacch hain,,,per,,kuch kucch 
Badha bhi detey hain,,hum,,,zeib-e-daastaan ke liye .....


मुस्तफ़ा ख़ाँ शेफ़्ता

Ashaar

Silwatein hain mere...सिलवटें हैं मेरे....

August 05, 2017

सिलवटें हैं मेरे चेहरे पे ,,,, तो ,,,,हैरत क्यों है..??
ज़िन्दगी ने मुझे ,,,तुमसे ,,,,कुछ,,,, ज़्यादा पहना.....
Silwatein hain mere chehre pe ,,,to,,hairat kyun hai ..??
Zindagi nein mujhe ,,,tumse,,,kuch ,,,zyada pehna ...
अहमद फ़राज़ 

Ashaar

Kisi Ko.....किसी को....

July 31, 2017

किसी को,,, भेज के खत,,, हाय !! ये कैसा अज़ाब आया ... कि,,, हर एक पूछता है,,,, नामाबर* !!! आया... जवाब... आया ???
Kisi Ko,,, Bhej Ke,,,Khat,,, Haaye !! Ye Kaisaa Azaab Aayaa Ki,, Har Ek Poochhta Hai,,, Naama-Bar* !! Aayaa,,,Jawaab... Aayaa नामाबर =Messenger, डाकिया

Ashaar

Vo ek raat....वो इक रात ....

July 29, 2017

वो ,,,इक रात की,,, गर्दिश में,,, इतना हार गया ....
लिबास पहने रहा,,, और,,, बदन उतार गया.... 

Vo,,, ek raat ki,,, gardish mein,,,, itna haar gaya
Libaas,,, pehne raha,,, aur,,, badan utaar gaya

Haseeb Soz 

Total Pageviews